Saturday, 6 October 2012

हिन्दू उत्तराधिकार अधिनियम, 1956

हिन्दू  उत्तराधिकार अधिनियम, 1956 की धारा 2(2) के अनुसार : उपधारा (1) में अंतर्विष्ट किसी बात के होते हुए भी इस अधिनियम में अंतर्विष्ट कोई भी बात ऐसी जनजाति के सदस्यों को जो सविधान के अनुच्छेद 366 के खंड (25) के अर्थ के अंतर्गत अनुसूचित जनजाति हो, लागू ना होगी जब तक की केन्द्रीय सरकार शासकीय राजपत्र से अधिसूचना द्वारा अन्यथा निर्दिष्ट ना कर दे। 
       गोंड जाति को इस अधिनियम के एवं हिन्दू विवाह अधिनियम, 1955 के प्रावधान लागू नहीं होते अतः द्वितीय विवाह अवैध नहीं है, इसलिए गोंड जाति का पुरुष अनेक विवाह कर सकता है। यदि किसी गोंड पुरुष ने दो विवाह किया तो उसकी मृत्यु के बाद द्वितीय पत्नी भी उसकी वारिस है।

1 comment:

  1. आपके ब्लॉग पर लगा हमारीवाणी क्लिक कोड ठीक नहीं है, इसके कारण हमारीवाणी लोगो पर क्लिक करने से आपकी पोस्ट हमारीवाणी पर प्रकाशित नहीं हो पाएगी. कृपया हमारीवाणी में लोगिन करके सही कोड प्राप्त करें और इस कोड की जगह लगा लें. यहाँ यह ध्यान रखा जाना आवश्यक है कि हमारीवाणी पर हर एक ब्लॉग के लिए अलग क्लिक कोड होता है.

    क्लिक कोड पर अधिक जानकारी के लिए निम्नलिखित लिंक पर क्लिक करें.
    हमारीवाणी पर ब्लॉग प्रकाशित करने के लिए क्लिक कोड लगाएँ

    किसी भी तरह की जानकारी / शिकायत / सुझाव / प्रश्न के लिए संपर्क करें

    टीम हमारीवाणी

    ReplyDelete